Curofy
Dr. Varsha Yadav (Ayurveda) needs a second opinion on this medical case.
1. Cowhage Itching Powder for Bodyache in Hindi 1 चम्मच कपिकच्छु -1 चम्मच शतावरी और 1 चम्मच गोक्षुरा बराबर को एक साथ 2 कप पानी में उबाले और आधा कप रह जाने के बाद छान लें। इसे न्यूरलजिया (नसों का दर्द), थकान, शरीर के दर्द, पीठ दर्द आदि के इलाज के लिए एक दिन में एक या दो बार 50 मिलीलीटर की खुराक में लेने की सलाह दी जाती है।  2. Kapikachhu ke Fayde for Back Ache in Hindi 5 ग्राम म्यूकुना के मोटे पाउडर को गाय के दूध के साथ पकाया जाता है। इसे एक चम्मच घी और आधा चम्मच चीनी के साथ मिलाया जाता है। यह पीठ दर्द और बुढापे की दुर्बलता के इलाज में उपयोगी है। 3.  Beej for Weight Gain in Hindi 2 चम्मच कपिकच्छु का बारीक़ पाउडर को एक कप दूध के साथ अच्छी तरह पकाया जाता है जब तक यह गाढ़ा नहीं हो जाता है। अब इसे घी एक चम्मच घी के साथ भूरे रंग का होने तक पकाइये। जब तक लगातार सरगर्मी के साथ हल्के गर्मी में पकाया जाता है तो यह पूरी तरह से एक केक में बदल जाता है। यदि आवश्यक हो तो इलायची, केसर, लौंग को स्वादानुसार मिलाया जा सकता है। यह थोड़े से घी के साथ थाली पर फैलाया जाता है। ठंडा होने के बाद इसे स्टोर किया जा सकता है। इस स्वादिष्ट केक में वजन बढ़ाने और दुर्बलता को दूर करने के लिए प्रभावी पोषक तत्व होते हैं। 4. Mucuna seed for Concentration in Hindi कपिकच्छु बीज के काढ़े का नियमित उपयोग दिमाग की असंतोष और चिड़चिड़ापन को दूर करने में मदद करता है। कपिकच्छु के काढ़े को 40-50 मिलीलीटर की खुराक में देने की सलाह दी जाती है।  5. Kapikacchu Powder for Sciatica in Hindi कपिकच्छु रूट पाउडर में भी कायाकल्प लाभ और नेटविन (netvine) टॉनिक प्रभाव होते हैं। पीठ दर्द, नसों के दर्द और कटिस्नायुशूल के उपचार में इसका पाउडर या काढ़ा उपयोगी होता है। 6. Mucuna Pruriens for Parkinson's Disease in Hindi कपिकच्छु तंत्रिका तंत्र संबंधी परेशानियों के लिए एक खास दवा के रूप में इस्तेमाल की जाती है। आधुनिक चिकित्सा में यह पार्किंसंस के इलाज में और समग्र मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए इसका अच्छा प्रभाव दिखाती है।  7.. कपिकच्छु के नुकसान - Kapikachhu Side Effects in Hindi म्यूकुना के साइड इफेक्ट्स पर कोई निश्चित शोध नहीं किया गया है। लेकिन दवा के कामोद्दीपक और न्यूरोलॉजिकल प्रभाव हैं और क्योंकि इसमें एल डोपा की उच्च मात्रा है तो इस दवा को सख्त चिकित्सा पर्यवेक्षण के तहत लिया जाना चाहिए। यह गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इस दवा से बचना सबसे अच्छा है। बच्चों को केवल मेडिकल पर्यवेक्षण के तहत ही दवा दी जानी चाहिए।  हालांकि, एल डोपा के सभी साइड इफेक्ट्स म्यूकुना प्रुरियन्स से सम्बंधित नहीं हो सकते हैं। यह फाइटो-केमिक्स के एक स्वस्थ मिश्रण के साथ एक प्राकृतिक जड़ी बूटी है और एल डोपा उनके बीच सिर्फ एक केमिकल है। Kapikachhu Dosage in Hindi बीज पाउडर - वयस्कों के लिए प्रतिदिन 6 से 10 ग्राम तक की मात्रा। बीज अर्क - 250 - 500 मिलीग्राम भोजन के बाद दिन में एक या दो बार। काढ़ा - 5 - 15 मिलीलीटर, एक या दो बार दिन में विभाजित मात्रा में।
See this content immediately after install